Friday, April 12, 2019

'Vo Chup Rahne Ko Kahte Hain Jo Hum Faryaad Karte Hain'

Another proscribed poem. The interesting thing about it is that the poet 'Bismil' (Ram Prasad, or Azeemabadi? As mentioned in the last post, I have a doubt because of at least a few mis-credited poems) uses the tropes of a romantic ghazal to speak of 'aazaadi'. Freedom, imprisonment, tyranny and the longing to be free.


'Vo Chup Rahne Ko Kahte Hain Jo Hum Faryaad Karte Hain'

Ilaahi khair, voh har dum se nayi bedaad karte hain
Humein tohmat lagaate hain jo hum faryaad karte hain 

Kabhi aazaad karte hain kabhi bedaad karte hain 
Magar is par bhi hum sau jee se unko yaad karte hain 

Aseeraan-e-qafas se kaash ye sayyaad keh deta 
Raho aazaad ho kar hum tumhe aazaad karte hain 

Raha karta hai ahal-e-ghum ko kya kya intezaar iska 
Kar dekhain vo dil nashaad ko kab shaad karte hain 

Ye kah-kah kar sabr ki umr ne qaid-e-ulfat main 
Vo ab aazaad karte hain, vo ab aazaad karte hain

Sitam aisa nahin dekha jafa aisi nahin dekhi 
Vo chup hone ko kehte hain jo hum faryaad karte hain 

Ye baat achhi nahin hoti, ye baat achhi nahin karte
Humein bekas samajh kar aap kyun barbaad karte hain

Koi bismil banaata hai jo maqtal mein humeen bismil
To hum darr kar dabi aavaaz se faryaad karte hain 
 


  (Ram Prasad?) Bismil (Azeemabadi?)
     From: Zabt Shuda Nazmein (page 86)


'वो चुप रहने को कहते हैं जो हम फ़र्याद करते हैं '

इलाही ख़ैर वो हर दम से नई बेदाद करते हैं
हमें तोहमत लगाते हैं जो हम फ़र्याद करते हैं 

कभी आज़ाद करते हैं कभी बेदाद करते हैं 
मगर इस पर भी हम सौ जी से उनको याद करते हैं 

असीरान-ए-क़फ़स से काश ये सय्याद कह देता 
रहो आज़ाद हो कर हम तुम्हे आज़ाद करते हैं 

रहा करता है अहल-ए-ग़म को क्या-क्या इंतेज़ार इसका 
कर देखें वो दिल नाशाद को कब शाद करते हैं 

ये कह-कह कर सब्र की उम्र ने क़ैद-ए-उल्फ़त में
वो अब आज़ाद करते हैं, वो अब आज़ाद करते हैं

सितम ऐसा नहीं देखा जफ़ा ऐसी नहीं देखी 
वो चुप होने को कहते हैं जो हम फ़र्याद करते हैं 

ये बात अच्छी नहीं होती ये बात अच्छी नहीं करते
हमें बेकस समझ कर आप क्यूँ बर्बाद करते हैं

कोई बिस्मिल बनाता है जो मक़्तल में हमें बिस्मिल
तो हम डर कर दबी आवाज़ से फ़र्याद करते हैं.  
  
(राम प्रसाद?) बिस्मिल (अज़ीमाबादी?)
[ज़ब्त शुदा नाज़में (पेज 86)]

Some difficult words:

बेदाद : अन्याय
अहल-ए-ग़म : ग़म रखने वाले लोग
असीरान-ए-क़फ़स : पिंजड़े में बंद क़ैदी
मक़्तल : क़त्ल की जगह


No comments:

Tweets by @anniezaidi