Sunday, May 12, 2019

देश प्रेम पे ध्यान: २

मेरी माँ ने एक बात कही थी जो ज़हन में गहरी जा के अटक गयी है। उन्होंने कहा: ख़ुदा/ भगवान/ प्रकृति किसी को दुनिया में भूखा मरने के लिए नहीं भेजता है; बच्चे के साथ उसकी रोटी भी भेजी है। माँ के ज़रिये उसके खाने-पीने का इंतेज़ाम किया है।

किसी बच्चे से उसकी रोटी, दूध छीना जा रहा है तो इसमें धरती का दोष नहीं है, न ऊपर वाले की कठोरता। ये इंसान का काम है, जो ऐसे हालात पैदा कर देता है कि माँ के पास कुछ नहीं बचता अपने बच्चे के लिए।

उन दिनों मैं अपनी माँ से अक्सर बहस किया करती थी। मुझे लगता था, ऊपर वाले (या वाली) की अच्छाई पे कोई कैसे यक़ीन कर सकता है जब नीचे, दुनिया में, देश में इतनी तकलीफ़ है? अब समझती हूँ। कुछ इंसान हैं ऐसे जो दूसरों से सब छीन लेते हैं, अपने पास बटोर के रख लेते हैं। इस बटोरने की कोई इन्तहा नहीं। ज़मीन, पेड़, साफ़ पानी और सुरक्षा, सुकून की नींद - इतना छीन लो और माँ की सेहत बिखरने लगेगी। लाचार माँ, भूखा बेज़ार बच्चा।

मुझे ये भी लगने लगा है, छीनने के सिलसिले की शुरुआत माँ की ज़ुबान से होती है, ताकि जब एक-एक कर सारी सहूलियतें, जीने के ज़रिये ख़त्म होते नज़र आएं, वो अपनी तकलीफ़ बयान न कर सके।

शायद छीनने वालों को डर है, कहीं बच्चे किसी तरह पल ही गए तो कौन सी कहानियाँ सुन कर सोयेंगे? माँ की मजबूरियों की ज़िम्मेदारी ठहराने चले, तो कहाँ रुकेंगे?

इसलिए माँ की ज़ुबान पे ताला ज़रूरी है। कभी उसे डराया जाता है - मुँह बंद रखो नहीं तो जान सलामत नहीं। कभी उसे छोटी-छोटी रिश्वत से बहलाया जाता है - ये लो एक रोटी और एक बोटी, चुप बैठ के खाओ नहीं तो कल दोबारा ये भी नहीं मिलेगी। जो माँ बेचैन रहे, चीख़े चिल्लाए कि जो हक़ प्रकृति ने दिया है उसे छीनने वाले तुम कौन हो? उसकी ज़ुबान खींच ली जाती है। जो लोग ज़मीन-पानी-हवा का शोर मचाएँ, उनका मुल्क ढेर कर दिया जाता है। 

देश. माँ. माता. Motherland. रोटी।  दूध।  बग़ावत।  शहादत।

कब से? कब तक?

शायद हर दौर में माँ एक रोटी का सौदा कर गयी है, चार रोटी की भूख को कुचलती हुई। हर दौर में एक मटका पानी लाने में इतनी मसरूफ़ रही, नदी की धार पे क़ब्ज़ा करना भूल गयी। बच्चों की जान बचाने के लिए पैसों का इंतज़ाम करती रही और जिस जगह पैसे पे बच्चों की ज़िन्दगी का सौदा टिका है, वहाँ के निज़ाम को खदेड़ने की ताक़त नहीं बना पाई।

प्रेम करती रही, वोट भर्ती रही। अपने हक़ में खड़ी कम ही हुई। बच्चे बच सके तो बच गए। 


6 comments:

balu said...

try this
B Best Hair Oil
kunkumadi face Oil

Wheat Grass Powder
Balu Herbals

wwwnortoncomsetup.com said...

I found this is an informative blog and also very useful and knowledgeable. I would like to thank you for the efforts you have made in writing this blog norton.com/setup
www.norton.com/setup

activate-redeem.com said...

Nice blog, it's so knowledgeable, informative, and good-looking site. assignment is a great platform that has been performing astonishingly well mcafee.com/activate
www.mcafee.com/activate

thenortonsetup.com said...

Very nice article, I found it very useful .Even I have this wonderful website norton.com/setup
www.norton.com/setup

avg-retail.com said...

I'm so glad and enjoyed your BLOG , It is very informative on subject or topic and Thanks For Sharing this post. I have something to share here www.avg.com/retail

www.avg.com/activate

avg.com/activate

avg.com/retail

mumbai escorts service said...

Mumbai escorts are the clear choice for an exceptional experience without the hassle! Our escorts give you the obvious advantage. Wet N Wild Mumbai escorts are available for a variety of social occasions when you need an absolute stunner who's GORGEOUS, smart, fit, intelligent and sexy! Wet N Wild Mumbai escorts offer a variety of fine female companions for any occasion when you need for as long as you need! Call Wet N Wild Mumbai escorts when you're ready to book an unforgettable experience with the finest Mumbai Escorts, Mumbai has to offer!
Mumbai escorts
Escort Services IN Mumbai
Mumbai Escorts Service
Mumbai call Girls
Hire Russian Escort Mumbai
Mumbai Escort

Tweets by @anniezaidi